Impact of advertisements in the Indian                                 economy
Impact of advertisements in the Indian economy


अगर हम economy के हिसाब से देखे तो भारत ५ वे नम्बर पर रैंक करता है। 

Impact of advertisements in the Indian economy


Statistics
GDP$3.202 trillion (nominal; 2020 est.) $12.363 trillion (PPP; 2020 est.)
GDP rank5th (nominal; 2019) 3rd (PPP; 2019)
GDP growth4.7% (Q3; 2019-20) 8.2% (16/17) 7.2% (17/18) 6.8% (18/19e) 5.0% (19/20f)
GDP per capita$2,338 (nominal; 2020 est.) $9,027 (PPP; 2020 est.)

अब आप को समझ ही गया होंगे की भारत पर विज्ञापन का क्या प्रभाव पड़ता होंंगा। भारत के economy पर 
भारत का विज्ञापन 2020 में 697 बिलियन रु। है। 


 एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत में विज्ञापन खर्च 2019 में 11.4 प्रतिशत बढ़कर 697 बिलियन रुपये हो जाने की संभावना है।

रिपोर्ट में कहा गया है कि 2020 का अनुमान जनवरी के विज्ञापन खर्च में 10.6 प्रतिशत की वृद्धि और 2019 में 10.8 प्रतिशत की वृद्धि से है।

एजेंसी ने कहा कि डिजिटल मीडिया खर्च 2020 में 32.7 प्रतिशत बढ़कर 144.1 अरब रुपये होने का अनुमान है। वैसे तो अगर जनसख्या के हिसाब से देखे तो ये आकड़ा कुछ नहीं हैं.

विज्ञापन उन मूल सिद्धांतों का समर्थन करता है जो हमारे राष्ट्र को आकार देते हैं: मुक्त भाषण, प्रतियोगिता और लोकतंत्र। औपनिवेशिक काल से, विज्ञापन ने हमारी खुली, बाजार आधारित अर्थव्यवस्था के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान की है।
  “विज्ञापन प्रतियोगिता का एक शक्तिशाली उपकरण है। यह एक कुशल और लागत प्रभावी तरीके से उत्पादों और सेवाओं के बारे में बहुमूल्य जानकारी प्रदान करता है। इस तरह, विज्ञापन अर्थव्यवस्था को सुचारू रूप से कार्य करने में मदद करता है - यह कीमतों को कम रखता है और बाजार में नए उत्पादों और नई फर्मों के प्रवेश की सुविधा प्रदान करता है।  विज्ञापन कर गठबंधन के लिए पेपर, सदन उपसमिति में चयनित पर उद्धृत है। 
वैसे आज कल हमारे देश में विज्ञापन का बहुत ही मूल्य है। यह लोंगो को जागरूक होने में बड़ा ही मत्वा पूर्ण है।